Search

You may also like

coolpunk
0 Views
Health tips: ऐसे बढ़ा सकते हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता, डाइट में इन चीजों को करें शामिल
Crazy Fail Feeling स्पेशल स्वास्थ्य

Health tips: ऐसे बढ़ा सकते हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता, डाइट में इन चीजों को करें शामिल

आपके शरीर के आसपास बहुत सारे बैक्टीरिया और वायरस मौजूद

coolpunk
0 Views
Koffee With Karan 6: इस महीने शुरू होगा करण का शो, अनुष्का-विराट होंगे पहले गेस्ट?
Crazy Fail Feeling स्पेशल स्वास्थ्य

Koffee With Karan 6: इस महीने शुरू होगा करण का शो, अनुष्का-विराट होंगे पहले गेस्ट?

करण जौहर के चैट शो कॉफी विद करण के सीजन

surprise
0 Views
ब्राज़ील में एक खूबसूरत व विचित्र बच्चे ने लिया जन्म, इस अद्भुत बच्चे को देख सब है हैरान
Crazy Fail Feeling स्पेशल स्वास्थ्य

ब्राज़ील में एक खूबसूरत व विचित्र बच्चे ने लिया जन्म, इस अद्भुत बच्चे को देख सब है हैरान

यूं तो जन्म लेने की प्रक्रिया अपने आप में ही

punkdislike

हेल्थ अलर्ट: एंटीबायॉटिक दवाओं से हर साल होती है 7 लाख लोगों की मौत

हेल्थ अलर्ट: एंटीबायॉटिक दवाओं से हर साल होती है 7 लाख लोगों की मौत

एंटीबायॉटिक दवाओं के हानिकारक प्रभावों पर प्रकाश डालते हुए एटना इंटरनेशनल ने अपने श्वेत पत्र ‘एंटीबायॉटिक प्रतिरोध : एक बहुमूल्य चिकित्सा संसाधन की ओर से बेहतर प्रबंध’ में इस पर तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता पर जोर दिया। ‘एंटीबायॉटिक प्रतिरोध प्रतिरोध (एएमआर) से दुनिया भर में हर साल करीब सात लाख लोगों की मौत हो रही है।

भारत, विश्व में एंटीबायोटिक दवाओं के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक है। पत्र में कहा गया कि बीमारी का बोझ, खराब सार्वजनिक स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे, बढ़ती आय और सस्ते ‘एंटीबायॉटिक प्रतिरोध दवाओं की अनियमित बिक्री जैसे कारकों ने भारत में ‘एंटीबायॉटिक प्रतिरोध
के संकट को बढ़ा दिया है। एंटीमिक्रोबियल प्रतिरोध (एएमआर) से दुनिया भर में करीब सात लाख लोगों की मौत हो रही है और 2050 तक मृत्यु का आंकड़ा एक करोड़ तक पहुंच सकता है। इन मौतों में बढ़ोतरी का प्रमुख कारण एंटीबायोटिक दवाओं का अनियंत्रित इस्तेमाल है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा 2015 में 12 देशों में किए सर्वेक्षण में यह बताया गया कि भारत सहित चार देशों के कम से कम 75 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने पिछले छह महीनों में ‘एंटीबायॉटिक प्रयोग किया। ब्रिक्स देशों में एंटीबायॉटिक खपत में 99 प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना है।

पत्र में कहा गया, ‘जितनी तेजी से दुनिया का मेडिकल सेक्टर विकसित हो है उतनी ही तेजी से एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल लोगों में बढ़ता जा रहा है।’

दुनिया भर में एंटीबायॉटिक प्रतिरोध के प्रति बढ़ती चिंता पर वी हेल्थ बाई एटना के चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. प्रशांत कुमार दास ने कहा, ‘अधिकांश भारतीय सोचते हैं कि एंटीबायोटिक दवाएं सामान्य सर्दी और गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी बीमारियों का इलाज कर सकती हैं, जो गलत धारणा है। इन संक्रमणों में से अधिकांश वायरस के कारण होते हैं और एंटीबायॉटिक दवाइयों की उनके इलाज में कोई भूमिका नहीं होती है।’

वहीं एटना इंडिया के प्रबंध निदेशक मानसीज मिश्रा ने कहा, ‘एंटीबायॉटिक प्रतिरोध एक संकट है जो विश्व स्तर पर सभी को प्रभावित करता है। एक वैश्विक, बहुमुखी रणनीतिक समाधान के साथ अब हमें इस मुद्दे को हल करने की आवश्यकता है।’

एंटीबायॉटिक दवाओं से होने वाली मौत के आंकड़ों में यूरोप सहित संयुक्त राज्य अमेरिका भी शामिल है। रिपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक इन दवाओं की बिक्री दुनिया के 76 गरीब देशों में तेजी से हो रही है।

Related topics Antibiotic Drug, Gastroenteritis, Health Alert, Health News, health tips
Next post Previous post

Your reaction to this post?

  • LOL

    0

  • Money

    0

  • Cool

    0

  • Fail

    1

  • Cry

    0

  • Geek

    0

  • Angry

    0

  • WTF

    0

  • Crazy

    0

  • Love

    0

You may also like

punk
0 Views
75 साल से बर्फ में दबा हुआ था ये जोड़ा, 1942 में हुए थे लापता अब मिली….
जिंदगी

75 साल से बर्फ में दबा हुआ था ये जोड़ा, 1942 में हुए थे लापता अब मिली….

ऐल्प्स के पास मंगलवार को सिकुड़े हुए स्काई लिफ्ट ग्लेशियर

coolpunk
0 Views
अधिकतर विटामिन और मिनरल सप्लीमेंट से नहीं पड़ता कोई प्रभाव
स्वास्थ्य

अधिकतर विटामिन और मिनरल सप्लीमेंट से नहीं पड़ता कोई प्रभाव

लोगों द्वारा सेवन किये जाने वाले लोकप्रिय विटामिन और मिनरल

punk
0 Views
घुटनों का दर्द अवसाद तो नहीं दे रहा आपको : अध्ययन
स्वास्थ्य

घुटनों का दर्द अवसाद तो नहीं दे रहा आपको : अध्ययन

आर्थराइटिस का सबसे साधारण प्रकार होता है ऑस्टियोआर्थराइटिस, जिससे दुनिया

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Comment

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person. Required fields marked as *