Search

You may also like

punksurprise
0 Views
U-17 FIFA WORLD CUP: अर्जेंटीना, पुर्तगाल जैसी बड़ी टीमें नहीं बनेंगी टूर्नामेंट का हिस्सा
Angry Cry News Posts Uncategorized खाना खजाना जरा हट के ज्योतिष लाइफस्टाइल विज्ञान शिक्षा हंसी मज़ाक

U-17 FIFA WORLD CUP: अर्जेंटीना, पुर्तगाल जैसी बड़ी टीमें नहीं बनेंगी टूर्नामेंट का हिस्सा

कई धुरंधर टीमों से इस बार भारत में होने वाले

angry
0 Views
Ohh! शिल्पा शेट्टी पर लाइन मारना इस एक्टर को पड़ा इतना भारी कि अब…
Angry Cry News Posts Uncategorized खाना खजाना जरा हट के ज्योतिष लाइफस्टाइल विज्ञान शिक्षा हंसी मज़ाक

Ohh! शिल्पा शेट्टी पर लाइन मारना इस एक्टर को पड़ा इतना भारी कि अब…

शिल्पा शेट्टी के साथ फ्लर्ट करके शो में सुर्खियां बटोरने

coolpunk
0 Views
रिसर्च: खुद का मजाक उड़ाएंगे तो हमेशा रहेंगे हेल्दी!
Angry Cry News Posts Uncategorized खाना खजाना जरा हट के ज्योतिष लाइफस्टाइल विज्ञान शिक्षा हंसी मज़ाक

रिसर्च: खुद का मजाक उड़ाएंगे तो हमेशा रहेंगे हेल्दी!

मजाक करना और ठहाके मारना सेहत के लिए अच्छा होता

angrycryingmoustachewink

लंबी जिंदगी जी सकते हैं ब्रेन ट्यूमर के मरीज

लंबी जिंदगी जी सकते हैं ब्रेन ट्यूमर के मरीज

अगर ब्रेन ट्यूमर की पहचान जल्द हो जाए तो तो 90 प्रतिशत कैंसर रहित ब्रेन ट्यूमर का पूरी तरह से इलाज हो जाता है, बशर्ते सही तरीके से इलाज कराया जाए। ब्रेन ट्यूमर के बारे में आम लोगों में जागरूकता कायम करने के उद्देश्य से आठ जून को दुनियाभर में विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस मनाया जाता है।

न्यूरो सर्जनों ने बताया कि भारत में हर साल 40 से 50 हजार मरीजों में ब्रेन ट्यूमर का पता चलता है और इनमें से 20 प्रतिशत बच्चे होते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, बच्चों में ल्यूकेमिया के बाद ब्रेन ट्यूमर सर्वाधिक सामान्य कैंसर है।

नई दिल्ली के फोर्टिस एस्कार्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट के वरिष्ठ ब्रेन एवं स्पाइन सर्जन डॉ. राहुल गुप्ता बताते हैं कि एक समय लोग सर्जरी के नाम से डरते थे, लेकिन आज मौजूदा समय में आधुनिक तकनीकों के आगमन के कारण ब्रेन ट्यूमर की सर्जरी काफी सुरक्षित एवं प्रभावी हो गई है तथा सर्जरी के बाद ब्रेन ट्यूमर के मरीज आम लोगों की तरह लंबा जीवन जीते हैं।

उन्होंने कहा कि आधुनिक तकनीकों के विकास के कारण आज ब्रेन ट्यूमर के मरीजों का इलाज कारगर एवं आसान हो गया है। पहले ब्रेन ट्यूमर के मरीज आम तौर पर तीन-चार महीने ही जीवित रह पाते थे, लेकिन आज इलाज के बाद ब्रेन टृयूमर के मरीज 10 साल, 20 साल और यहां तक कि 50 साल तक भी जीवित रहते हैं।

डॉ. गुप्ता ने बताया कि वर्तमान समय में जांच सुविधाओं की सुलभता तथा जागरूकता बढ़ने के कारण ब्रेन ट्यूमर के मामले जल्दी पकड़ में आ रहे हैं और इसके कारण ब्रेन ट्यूमर के मरीज जल्दी ठीक होकर लंबी जिंदगी जी रहे हैं। उन्होंने कहा कि पांच साल पहले की तुलना में आज उनके पास इलाज के लिए ब्रेन ट्यूमर के दोगुने मरीज आ रहे हैं। कुछ साल पहले तक उनके पास हर महीने 10 से 15 ब्रेन ट्यूमर के मरीज आते थे, लेकिन आज लगभग हर दिन ब्रेन ट्यूमर के एक मरीज आते हैं।

नई दिल्ली के बीएलके हॉस्पिटल के वरिष्ठ न्यूरोसर्जन डॉ. रोहित बंसिल कहते हैं कि अगर सही समय पर ब्रेन ट्यूमर का पता चल जाए और सही समय पर सही इलाज शुरू हो जाए तो इलाज पूरी तरह से कारगर होता है।

उन्होंने कहा कि सुबह-सुबह सिरदर्द या उल्टी के साथ सिरदर्द होना सिर के किसी हिस्से में पनप रहे ट्यूमर का संकेत हो सकता है। अगर सिर में अक्सर दर्द रहता हो, सिर दर्द के साथ उल्टी होती हो, किसी अंग में कमजोरी महसूस होती हो, आंखों की रोशनी घट रही हो तथा दिमागी दौरे पड़ते हों तो ये लक्षण ब्रेन ट्यूमर के हो सकते हैं और ऐसी स्थिति में जांच एवं इलाज में विलंब करना मौत को बुलावा देना साबित हो सकता है।

मुंबई के वोकहार्ट हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. शिरीष हस्तक बताते हैं कि सेलफोन से होने वाले विकिरण एवं कुछ रसायनों के बहुत अधिक संपर्क में रहने से ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ता है। उन्होंने कहा कि आरंभिक शोधों से पता चलता है कि सेल फोन से निकलने वाली रेडियोफ्रीक्वेंसी ऊजार् ब्रेन ट्यूमर पैदा कर सकती है, हालांकि इस बारे में जो निष्कर्ष निकले हैं, उनकी पूरी तरह से पुष्टि नहीं हुई है।

डॉ. हस्तक के मुताबिक, कार्सिनोजेनिक किस्म के रसायनों के संपर्क में रहने से भी ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ता है। जो लोग आइयोनाइजिंग रेडिएशन के संपर्क में रहते हैं, उन्हें ब्रेन ट्यूमर होने का खतरा अधिक होता है। डॉ. रोहित बंसिल के अनुसार, ब्रेन ट्यूमर होने पर मस्तिष्क के उस क्षेत्र पर दबाव पड़ता है, जिससे वहां की कार्य प्रक्रिया में बाधा पड़ती है। अगर किसी को उल्टी के साथ सिरदर्द, चक्कर आना/मूछार्/बेहोशी/मिगीर्, शरीर के अंगों में असामान्य सनसनाहट, लड़खड़ाहट के साथ चलना या असंतुलन (एटैक्सिया), धुंधला दिखना या दृष्टि में कमी, बोलने में कठिनाई, व्यवहार में परिवर्तन, अंगों की कमजोरी, थकावट, भ्रम, एकाग्रता में कमी जैसे लक्षण हो रहे हों तो न्यूरो विषेशज्ञ से संपर्क करना चाहिए, क्योंकि ये लक्षण ब्रेन ट्यूमर के हो सकते हैं।

मेट्रो मल्टी स्पेशियलिटी हास्पीटल की न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. सोनिया लाल गुप्ता के अनुसार, ब्रेन ट्यूमर दो प्रकार के होते हैं- बिनाइन (बिना कैंसर वाले) या मेलिग्नेंट (कैंसर वाले)। बिनाइन ट्यूमर धीरे-धीरे बढ़ता है और कभी भी शरीर के दूसरे भाग में नहीं फैलता है, जबकि मेंलिंगनेंट ट्यूमर कैंसर वाले ट्यूमर होते हैं, जो बहुत तेजी से और आक्रामक तरीके से बढ़ते हैं। कैंसर वाले ट्यूमर मस्तिष्क के आसपास के हिस्से को भेदते हुए कई बार मस्तिष्क के दूसरे हिस्से या रीढ़ में भी फैल जाते हैं।

Related topics Brain Tumor, Brain Tumor Treatment, Health News, health tips, Symptoms Of Brain Tumors, World Brain Tumor Day
Next post Previous post

Your reaction to this post?

  • LOL

    0

  • Money

    0

  • Cool

    0

  • Fail

    0

  • Cry

    0

  • Geek

    0

  • Angry

    0

  • WTF

    0

  • Crazy

    0

  • Love

    0

You may also like

coolpunk
0 Views
मस्तिष्क का भारतीय टेंपलेट बनाने में जुटे विशेषज्ञ
जरा हट के

मस्तिष्क का भारतीय टेंपलेट बनाने में जुटे विशेषज्ञ

भारतीय न्यूरोसाइंटिस्ट इनसान के मस्तिष्क का भारतीय टेंप्लेट बनाने की

angrylovesurprise
0 Views
चलती कार के अंदर इस लड़की ने किया जबरदस्‍त डांस, वीडियो वायरल
Fun

चलती कार के अंदर इस लड़की ने किया जबरदस्‍त डांस, वीडियो वायरल

नुसरत फ़तेह अली खान एक ऐसी आवाज कि जिसे कोई

surpriselike
0 Views
जानें, आखिर भारत को क्‍यों कहा जाता है ‘इंडिया’?
Viral News

जानें, आखिर भारत को क्‍यों कहा जाता है ‘इंडिया’?

भारत में रहने वाली जनता पिछले कई सालों से यहां

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Comment

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person. Required fields marked as *